Naat-Hindi

Wo Bareli Ka Ahmad Raza Hai

Wo Bareli Ka Ahmad Raza Hai

ग़ौसे आज़म رضي الله عنه का दीवाना वो है ख़्वाजा رضي الله عنه का मस्ताना जो मुहम्मद ﷺ पे दिल से फ़िदा है वो बरेली का अहमद रज़ा رضي الله عنه है दसवीं तारीख थी, माहे शव्वाल था घर नक़ी खान के बेटा पैदा हुवा नाम अहमद रज़ा رضي الله عنه जिस का रखा गया आला …

Wo Bareli Ka Ahmad Raza Hai Read More »

Chaand Nikla Eid Ka Naat Hindi - Barelvi.in

Chaand Nikla Eid Ka

मोमिनो ख़ुशियाँ मनाओ, चाँद निकला ईद का नूर की शम्ए जलाओ, चाँद निकला ईद का घर को अपने तुम सजाओ चाँद निकला ईद का रौशनी से झगमगाओ, चाँद निकला ईद का दो मुबारकबाद सबको ईद की ऐ मोमिनो ! सर को सज़्दे में झुकाओ, चाँद निकला ईद का रब ﷻ ने रोज़ेदार को अब ईद …

Chaand Nikla Eid Ka Read More »

Ramzaan Al Wadaa

Ramzaan Al Wadaa – माह-ए-रमज़ान अल-वदाअ़

रमज़ान है चला, माह-ए-रमज़ान है चला रमज़ान है चला, माह-ए-रमज़ान है चला रमज़ान अल-वदाअ़, माह-ए-रमज़ान अल-वदाअ़ रमज़ान अल-वदाअ़, माह-ए-रमज़ान अल-वदाअ़ रोती है आँख दिल है परेशान या ख़ुदा अब छोड़ के चला हमें रमज़ान या ख़ुदा फिर से दिखाना तू माह-ए-ग़ुफ़रान या ख़ुदा हम आसियों का है यही अरमान या ख़ुदा रमज़ान अल-वदाअ़, माह-ए-रमज़ान अल-वदाअ़ …

Ramzaan Al Wadaa – माह-ए-रमज़ान अल-वदाअ़ Read More »

Meri Baat Ban Gai Hai Teri ﷺ Baat Karte Karte

Meri Baat Ban Gai Hai Teri ﷺ Baat Karte Karte

इस करम का करूँ शुक्र कैसे अदाजो करम मुझ पे मेरे नबी ﷺ कर दियामैं सजाता हूँ सरकार ﷺ की मेहफ़िलेंमुझ को हर ग़म से रब ﷻ ने बरी कर दिया मेरी बात बन गई है तेरी ﷺ बात करते करतेतेरे शहर में मैं आऊं तेरी ﷺ नात पड़ते पड़ते तेरे इश्क़ की बदौलत मुझे …

Meri Baat Ban Gai Hai Teri ﷺ Baat Karte Karte Read More »

Ya Ilahiﷻ Har Jagah Teri Ata Ka Saath Ho

Ya Ilahiﷻ Har Jagah Teri Ata Ka Saath Ho

या इलाही ﷻ हर जगह तेरी अ़त़ा का साथ हो जब पड़े मुश्किल शहे मुश्किल कुशा का साथ हो या इलाही ﷻ भूल जाऊं नज़्अ़ की तक्लीफ़ को शादिये दीदारे ह़ुस्ने-मुस्त़फ़ा का साथ हो या इलाही ﷻ गोरे तीरह की जब आए सख़्त रात उन के प्यारे मुंह की सुब्ह़े जां फ़िज़ा का साथ हो …

Ya Ilahiﷻ Har Jagah Teri Ata Ka Saath Ho Read More »

हुज़ूर ﷺ ऐसा कोई इंतिज़ाम हो जाए-Huzoor ﷺ Aisa Koi Intizaam Ho Jae

हुज़ूर ﷺ ऐसा कोई इंतिज़ाम हो जाए-Huzoor ﷺ Aisa Koi Intizaam Ho Jae

हुज़ूर ﷺ ऐसा कोई इंतिज़ाम हो जाएसलाम के लिये हाज़िर ग़ुलाम हो जाए मैं सिर्फ़ देख लूँ एक बार सुब्ह तयबा कोकज़ा से फिर मेरी दुनिया में शाम हो जाए तजल्लियात से भर लूँ मैं कासा-ए-दिल-ओ-जां कभी जो उन की गली में क़याम हो जाए हुज़ूर ﷺ आप जो सुन लें तो बात बन जाएहुज़ूर …

हुज़ूर ﷺ ऐसा कोई इंतिज़ाम हो जाए-Huzoor ﷺ Aisa Koi Intizaam Ho Jae Read More »

Scroll to Top